Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है

Table of Contents

परिचय:-

(Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

शेयर बाजार में कई प्रकार से ट्रेडिंग किया जाता है और इसमें लोग बहुत अच्छा पैसा कमा भी रहे हैं | बाजार में कुछ ट्रेडिंग के प्रकार हैं जिसमे इंट्राडे या डे ट्रेडिंग, स्विंग ट्रेडिंग,ऑप्शन ट्रेडिंग, और फ्यूचर ट्रेडिंग आता है | इस बाजार में बहुत से नए लोग आ रहे हैं और उन्हें यह नहीं पता की शेयर बाजार में किस प्रकार से ट्रेडिंग किया जाता है तो आज हम इस ब्लॉग में हम सीखेंगे की स्विंग ट्रेडिंग क्या है – Swing Trading Kya Hai In Hindi और स्विंग ट्रेडिंग कैसे किया जाता हैं, स्विंग ट्रेडिंग के लिए किन चीजों की जरुरत होती है और क्या-क्या सीखना पड़ता है ? (Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

Swing Trading Kya Hai In Hindi - स्विंग ट्रेडिंग क्या है

Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है ?

स्विंग ट्रेडिंग एक बहुत ही अच्छा और सरल रणनीति है जिसमे हम शेयर के मूल्य का उतार और चढाव होने पर उस शेयर से लाभ उठाने का प्रयास करते है | स्विंग ट्रेडिंग कुछ दिनो से लेकर कुछ हफ्तों का हो सकता है , स्विंग ट्रेडिंग हम स्टॉक, ऑप्शन, और फ्यूचर पर कर सकते हैं | इसमें हम मुख्या रूप से बाजार में आये तेजी या मंदी का फायदा लेने की कोशिश करते हैं | (Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

Swing Trading Kaise Kiya Jata Hai – स्विंग ट्रेडिंग कैसे किया जाता है ?

किसी स्टॉक का मूल्य ऊपर या नीचे की ओर जाने वाली है यह आपको किसी भी माध्यम से पता चल जाता है या तो एनालिसिस से या फिर किसी न्यूज़ से तो आप उसे शेयर को खरीद लेते हैं और यह एनालिसिस सही निकलता है और आपका स्टॉक का मूल्य पहले से बढ़कर ऊपर की ओर चला जाता है तो आपको मुनाफा दिखना स्टार्ट हो जाता है, मुनाफा प्राप्त होने पर आप उस स्टॉक को बचकर निकल जाते हैं और आपको मुनाफा प्राप्त हो जाता है इसी प्रकार स्विंग ट्रेडिंग किया जाता है | चलिए हम इसे कुछ उदाहरण के साथ समझते हैं –

Ex.- अपने XYZ शेयर जिसका मूल्य 100/- है उस शेयर का जाँच (एनालिसिस) किया और आपको पता चला की अब ये शेयर 100/- से बढ़कर 110/- या 120/- जाने वाला है तो अपने उसे XYZ शेयर 100 स्टॉक 100/- में खरीद लिए अब यह मूल्य बढ़ाकर 110/- या 120/- चला जाता है तो आपको हर शेयर में 10% या 20% का मुनाफा देखने को मिलेगा |

₹100 से 110 या 120 जाने में यह कुछ दिन से लेकर कुछ हफ्तों का समय ले सकता है जब शेयर का मूल्य 110/- या 120/- पर चला जाता है तब आप वहां उस शेयर को बेचकर अपना मुनाफा निकाल लेते हैं, तो आपके यहां इस ट्रेड में पर शेयर ₹20 का फायदा हुआ | अपने 100 शेयर खरीदा हुआ था प्रति शेयर ₹20/- का फायदा होने पर आपको ₹2000 का फायदा हुआ | (Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

इसी के विपरीत अगर मार्केट मंदी की ओर हो और आपको पता चले कि शेयर ₹100 से ₹90 जाने वाली है तो आप ₹100 में बेंच कर ₹90 में खरीद ले तो आपको ₹10 प्रति शेयर का मुनाफा देखने को मिल जाएगा |

Swing Trading Kya Hai In Hindi - स्विंग ट्रेडिंग क्या है

उदाहरण से आपको समझ आ गया होगा की स्विंग ट्रेडिंग कैसे किया जाता है और किस प्रकार स्विंग ट्रेडिंग से मुनाफा कैसे कमाएं जाता है | (Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

स्विंग ट्रेडिंग नए लोगों के लिए आकर्षण क्यों है ?

1. कम समय :- इंट्राडे या डे ट्रेडिंग की तुलना में स्विंग ट्रेडिंग में हमें शेयर की निगरानी पूरे दिन करने की जरूरत नहीं होती जिसके कारण हमें शेयर बाजार में कम समय देना पड़ता है |
2. ज्यादा मुनाफा :- इंट्राडे की तुलना में स्विंग ट्रेडिंग में हमें अधिक फायदा देखने को मिलता है क्योंकि हम शेयर को लंबे अवधि के लिए अपने पास रखते हैं | (Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)
3. जोखिम की कमी :- स्विंग ट्रेडिंग में जोखिम अत्यंत ही काम होता है क्योंकि अगर आप शेयर की सही से एनालिसिस किए हैं तो आपको कुछ दिनों में फायदा देखने को मिल जाता है और अगर हमें नुकसान देखने को मिल रहा है और कंपनी अच्छी है तो उसे हम अपने साथ आगे कई महीनो के लिए रख सकते हैं |

जिसके कारण स्विंग ट्रेडिंग में कम नुकसान होता है मुख्य यही कारण है जिससे नए लोगों के लिए स्विंग ट्रेडिंग एक सरल एवं आकर्षक विकल्प बन गया है |

अब आप समझ गए होंगे की स्विंग ट्रेडिंग क्या है और स्विंग ट्रेडिंग कैसे किया जाता है  (Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है) तो अब हम आगे स्विंग ट्रेडिंग करने की पूरी जानकारी बताने वाले हैं –

स्विंग ट्रेडिंग के लिए तैयारी

अब हम स्विंग ट्रेडिंग की पूरी प्रक्रिया एक-एक करके समझने वाले हैं | (Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

ट्रेडिंग खाता खोलना :-

Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है

Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है  यह अपने जान लिया अब हम ट्रेडिंग खाता खोलना सीखते हैं | शेयर बाजार में किसी भी स्टॉक ऑप्शन फ्यूचर को खरीदने या बेचने के लिए आपको एक ट्रेडिंग खाता की जरूरत पड़ती है बिना ट्रेडिंग खाता के आप किसी भी प्रकार की शेर को खरीद और भेज नहीं सकते | ट्रेडिंग खाता खोलने के लिए आपको बहुत सारे ब्रोकर देखने को मिल जाएंगे उनमें से कुछ मुख्य है जिनका नाम मैंने नीचे दिया हुआ है वहां आप क्लिक करके अपना खाता खोल सकते हैं |

Join Our Channel –  Telegram

एक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म चुनना :- 

ट्रेडिंग खाता ओपन हो जाने के बाद आपको एक प्लेटफार्म चुनना होगा जिसमें आप अपने चार्ट सिग्नल को देख सकें इसके लिए जो आप ट्रेंडिंग खाता खोले हैं उसके अंदर ही आपको सारे चार्ट और सिग्नल देखने को मिल जाते हैं लेकिन एक अलग से प्लेटफार्म है जिसका प्रयोग सारे ट्रेड करते हैं जिसका नाम है ट्रेडिंगव्यू वहां आप अपने सारे चार्ट और सिग्नल देख सकते हैं |

बाजार का अध्ययन करना :-

अब आप बाजार का अध्ययन प्रारंभ करेंगे जिसमें आप ट्रेड करना चाहते हैं उसके बारे में आपको जानकारी प्राप्त करना होगा हम इसमें स्विंग ट्रेडिंग के बारे में सीख रहे हैं तो हम स्विंग ट्रेडिंग के बारे में अध्ययन करेंगे | हमें यह ज्ञात करना है कि बाजार अभी तेजी की ओर है या फिर मंदी की ओर अगर बाजार तेजी की ओर है तो हम शेयर खरीद कर मुनाफा प्राप्त करने की कोशिश करेंगे और अगर बाजार मंदी की ओर है तो हम शेयर बेचकर मुनाफा प्राप्त करने की कोशिश करेंगे |

तकनीकी विश्लेषण सीखना :-

बाजार अध्ययन कर लेने के बाद आपको किसी शेयर का तकनीकी विश्लेषण या फिर टेक्निकल एनालिसिस करना होगा जैसे कि उस शेयर का चार्ट पेटर्न उस शेयर का वॉल्यूम इसके साथ-साथ हम मूविंग एवरेज, बॉलिंगर बैंड, RSI जैसे इंडिकेटर का भी प्रयोग करेंगे ।

ट्रेडिंग योजना बनाना :-

अंत में सभी कार्य कर लेने के बाद हमें एक ट्रेडिंग योजना बनानी होती है कि हमें उसे स्टॉक को कितने रुपए में खरीदना है कितने रुपए में बेचना है अगर लॉस होता है तो हम कितने रुपए का लॉस देंगे यह सब योजना बनाकर हमें शेयर खरीद या बेचना प्रारंभ करना चाहिए

स्विंग ट्रेडिंग के लिए सिग्नल ढूंढना

स्विंग ट्रेडिंग के लिए एक परफेक्ट सिग्नल ढूंढना एक महत्वपूर्ण कार्य होता है गलत सिग्नल पर खरीदी और बिक्री करने से एक बड़ा लॉस हो सकता है इस कारण स्विंग ट्रेडिंग करने के लिए एक सही स्टॉक का चुनाव करना जरूरी है तो इसमें हम स्विंग ट्रेडिंग के लिए सही स्टॉक का चयन करना सीखेंगे |

स्विंग ट्रेडिंग के लिए तकनीकी संकेतक:-

तकनीकी संकेतक के अंदर वो इंडिगेटर आते है जो हमें खरीदने और बेचने के लिए सिग्नल देता है |

1. मूविंग एवरेज (Moving Average):-

Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है

मूविंग एवरेज एक ऐसा इंडिकेटर है जो स्टॉक के ट्रेंड को बताता है कि यह स्टॉक ऊपर जाने वाला है या नीचे जाने वाला है अगर हम 50 मूविंग एवरेज लगते हैं और प्राइस उससे ऊपर चला जाता है तो हम यह मानते हैं कि स्टॉक का प्राइस अब ऊपर जाने वाला है और अगर स्टॉक का प्राइस 50 मूविंग एवरेज से नीचे चला जाता है तो हम मानते हैं कि अब स्टॉक का प्राइस नीचे गिरने वाला है |

2. रिलेटिव स्ट्रेंथ इंडेक्स (RSI):-

RSI इंडिकेटर एक मोमेंटम इंडिकेटर है यह स्टॉक के परिवर्तन को बताता है RSI का मन 0 से 100 के बीच होता है, आमतौर पर हम मानते हैं अगर RSI 70 से ऊपर है तो ओवरबॉट जोन पर है और अगर RSI 30 के नीचे है तो हम उसे ओवरसोल्ड जोन मानते हैं, अगर RSI ओवरसोल्ड जोन के पास है तो एक संकेत है कि यहां से स्टॉक का प्राइस ऊपर जा सकता है और अगर RSI ओवरबॉट जोन पर है तो एक संकेत है कि अब इसमें खरीदी नहीं करना चाहिए क्योंकि यहां से प्राइस नीचे आ सकता है | (Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

3. बोलिंगर बैंड (Bollinger Bands):-

बोलींजर बैंड स्विंग ट्रेडिंग स्टॉक के लिए एक अच्छा इंडिकेटर है बोलींजर बैंड में दो बैंड होता है एक ऊपर के साइड और एक नीचे के साइड अगर प्राइस नीचे बैंड को टच कर रहा है इसका मतलब यहां से स्टॉक ऊपर जा सकता है और अगर स्टॉक का प्राइस बोलींजर बैंड के ऊपर लाइन को टच कर रहा है इसका मतलब है कि अब प्राइस नीचे आ सकता है |

स्विंग ट्रेडिंग के लिए चार्ट पैटर्न:-

स्विंग ट्रेडिंग में चार्ट पेटर्न का उपयोग बहुत ही अधिक किया जाता है चार्ट पेटर्न मूल्य का सही से निर्देश देता है और भविष्य में क्या होने वाला है यह आसानी से हमें चार्ट पेटर्न से पता चल जाता है किंतु चार्ट पेटर्न को सिखाना कठिन है इसको सीखने के लिए आपको प्रॉपर मेहनत करनी पड़ती है | चार्ट पेटर्न से हम बहुत सारे डेटा निकाल सकते हैं और एक अच्छा खासा मुनाफा स्विंग ट्रेडिंग से हम बना सकते हैं | चार्ट पेटर्न में बहुत सारे प्रकार के पैटर्न होते हैं जैसे की हेड एंड शोल्डर, ट्रायंगल, फ्लैग, डबल टॉप, डबल बॉटम आदि इन सारे पैटर्न से हम ट्रेड करके अच्छा खासा बड़ा प्रॉफिट बना सकते हैं चार्ट पेटर्न स्विंग ट्रेडिंग के लिए एक अत्यंत महत्वपूर्ण होता है |

खबरें एवं घटनाएं :-

शेयर बाजार में कोई भी घटना और खबर बाजार के सारे स्टॉक के कीमतों को प्रभावित करता है इस कारण आपको हमेशा खबरें एवं कंपनी के डाटा कंपनी की कमाई कंपनी की नए नियम इन सब सभी चीजों की जानकारी आपको होना चाहिए | (Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

स्विंग ट्रेड में प्रवेश और निकास :-

प्रवेश बिंदु (Entry Points):-

जब कोई स्टॉक पर आपके एनालिसिस के अनुसार या इंडिकेटर या टेक्निकल एनालिसिस पर एंट्री बनती है तब आप ट्रेड में प्रवेश ले सकते हैं बाजार की खबरों से भी आप शेयर में प्रवेश कर सकते हैं अगर टेक्निकल एनालिसिस इंडिकेटर ट्रेंड या बाजार की खबर तेजी की ओर है तो आप शेयर बाय कीजिए और अगर मंदी की ओर है तो आप उसे सेल कीजिए |

निकास बिंदु (Exit Points):-

किसी भी ट्रेड में प्रवेश करने से ज्यादा महत्वपूर्ण ट्रेड से कब बाहर निकलना है यह महत्वपूर्ण है ट्रेड से बाहर निकालने के कुछ तरीके हैं – (Swing Trading  Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

1. लाभ लक्ष्य (Profit Target):- अगर आपको आपके ट्रेड में लाभ या फायदा दिखाना स्टार्ट होता है तो आप अपने निश्चित लाभ या मुनाफे को लेकर बाजार से बाहर निकाल सकते हैं | (Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

2. स्टॉप-लॉस ऑर्डर (Stop-Loss Order):- अगर आप अपने स्टॉक पर एक निर्धारित मूल्य पर स्टॉपलॉस लगाया हो और वह स्टॉप लॉस के पास पहुंच जाता है तो भी आप अपने शेयर को बेंच कर बाजार से बाहर निकाल सकते हैं |

3. ट्रेलिंग स्टॉप-लॉस (Trailing Stop-Loss):- ट्रेड से बाहर निकलने का एक और तरीका ट्रेलिंग स्टॉप-लॉस है इसमें आप अपने खरीदे शेयर मूल्य से थोड़े ऊपर जाते देखने को मिले और उसके बाद गिरावट प्रारंभ होती है तो आप अपना ट्रॉलिंग स्टॉप लॉस का प्रयोग करके थोड़ा प्रॉफिट लेकर मार्केट से बाहर निकाल सकते हैं |

4. चार्ट पैटर्न और तकनीकी संकेतक:- अगर आप अपना ट्रेड चार्ट पेटर्न या इंडिकेटर के सहायता से लिए हैं और आपको अपना चार्ट पेटर्न या इंडिकेटर पर रिवर्सल पैटर्न देखने को मिलता है या फिर ओवरबोट जोन दिखाई देता है तो भी आप अपना मुनाफा लेकर मार्केट से बाहर निकाल सकते हैं | (Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

जोखिम प्रबंधन (Risk Management):-

(Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

रिस्क मैनेजमेंट स्विंग ट्रेडिंग या अन्य किसी ट्रेडिंग के लिए एक महत्वपूर्ण होता है अगर आप बिना रिस्क मैनेजमेंट के ट्रेड करते हैं तो आपका पूंजी पूरी तरीके से खाली हो जाएगा इसलिए आपको ट्रेड लेने से पहले आपका रिस्क पता होना चाहिए, अगर आप अपने एक ट्रेड में 1 से 2% का जोखिम ले रहे हैं तो आपको 5% का टारगेट मिनिमम लेना चाहिए ताकि आपको लॉस काम और प्रॉफिट ज्यादा हो हर ट्रेड में आपको ट्रेलिंग स्टॉप-लॉस का प्रयोग करना चाहिए साथ ही साथ स्टॉप-लॉस का भी प्रयोग करना चाहिए आप हर ट्रेड बाजार के अनुसार ले बाजार के विपरीत दिशा में कभी भी ट्रेड ना लें | (Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

स्विंग ट्रेडिंग के सामान्य गलतियाँ

भावनाओं से व्यापार करना:- 

जैसे कि हमने पहले बताया है की स्विंग ट्रेडिंग कैसे करते हैं स्विंग ट्रेडिंग में स्टॉक को खरीदने या बेचते हैं तब मुनाफा या हानि होने पर आप अपने भावनाओं को रोक नहीं पाते जिसके कारण मुनाफा होने पर हम मार्केट से जल्दी बाहर निकल जाते हैं और हानि होने पर उम्मीद लेकर बैठ जाते हैं कि यह स्टॉक वापस ऊपर आएगा यह गलतियां हमें बिल्कुल भी स्विंग ट्रेडिंग में नहीं करनी है | (Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

बिना रिसर्च किए ट्रेड करना:-

(Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

स्विंग ट्रेडिंग कैसे करते हैं इसमें हमने देखा था कि हम कोई भी ट्रेड लेते हैं उससे पहले उसके बारे में चार्ट पेटर्न या फिर इंडिकेटर का प्रयोग करते हैं अगर आप बिना चार्ट पेटर्न और इंडिकेटर के स्विंग ट्रेडिंग करना स्टार्ट करते हैं तो आपको हमेशा नुकसान हो सकता है इस कारण बिना रिसर्च किया आपको ट्रेड नहीं लेना चाहिए अगर आप बिना रिसर्च किया ट्रेड लेते हैं तो आपको कभी भी प्रॉफिट नहीं होगा और आपका पूंजी खाली हो जाएगा |

अपने स्टॉपलॉस का पालन करना:-

स्विंग ट्रेडिंग करते समय आपको हमेशा स्टॉप लॉस का पालन करना चाहिए स्विंग ट्रेडिंग में हमने जाना था कि स्टॉप लॉस हमारे ट्रेडिंग में कितना इंपॉर्टेंट होता है अगर आप स्टॉप लॉस लगते हैं तो आपका पूंजी की कुछ भाग ही हानि में जाएगा अगर आप स्टॉपलॉस नहीं लगाएंगे तो आपको बड़ा नुकसान होते हुए भी देखने को मिल सकता है इसलिए हर एक ट्रेड में स्टॉप लॉस का पालन करें | (Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

बहुत अधिक पैसा जोखिम में डालना:-

स्विंग ट्रेडिंग करते समय नए लोग यह सोचते हैं कि अगर हम बाजार में ज्यादा पैसा लगे तो हम ज्यादा मुनाफा प्राप्त कर सकते हैं पर यह भी तो है कि अगर आप ज्यादा पैसे बाजार में लगाएंगे तो ज्यादा लॉस होता है, ज्यादा पैसा डूबने के डर होते हैं इस कारण आप उतना ही पैसा मार्केट में लगाएं जितना आप हानि उठा सकते हैं अगर आप बिना जोखिम को समझे पैसा मार्केट में लगाते हैं तो आपको बड़ा नुकसान होते हुए देखने को मिल सकता है अपने जोखिम के अनुसार ही बाजार में पैसा लगाकर ट्रेडिंग करें | (Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

स्विंग ट्रेडिंग में सफलता के लिए सुझाव

किसी भी कार्य को करने के लिए प्रयास और समय दोनों का महत्वपूर्ण योगदान होता है इसी प्रकार ट्रेडिंग में भी आपको सफल होने के लिए समय और प्रयास दोनों लगातार करना होगा | आप जिस रणनीति का उपयोग करते हैं उसे बार-बार प्रयास कीजिए और उस रणनीति पर समय दीजिए उसके बाद आपकी सफलता की संभावना बहुत ही ज्यादा बढ़ जाएंगे | स्विंग ट्रेडिंग में सफल होने के लिए नीचे कुछ बिंदु दिए हुए हैं इन बिंदुओं का पालन करके स्विंग ट्रेडिंग में सफलता प्राप्त कर सकते है – (Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

धैर्य रखें:

(Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

स्विंग ट्रेडिंग में आने के बाद हम सोचते हैं कि जल्द से जल्द हमें अमीर होना है इस कारण हमें कई बार बड़ा नुकसान देखना पड़ता है ट्रेडिंग में अगर आपको अमीर बनना है तो आपको धैर्य रखना होगा सही समय का इंतजार करना होगा सही ट्रेड मिलने पर ही आपको बाजार में खरीदी या बिक्री करनी होगी अगर आप धैर्य नहीं रखते हैं तो हमेशा गलत जगह खरीदी या बिक्री करेंगे जिससे आपको नुकसान हो सकता है इस कारण आपको धैर्य रखना बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण है |

अनुशासित रहें:

ट्रेडिंग में आपने जो रणनीति बनाई है आपने जो नियम बनाए हैं उसके प्रति आप अनुशासित रहे अगर आप अपने नियम और रणनीति के प्रति अनुशासित नहीं रहेंगे तो आपको हमेशा जोखिम देखना पड़ सकता है अगर आप नियम और अपने रणनीति का पूरी तरीके से पालन करते हैं अनुशासित करते हैं तो आपको स्विंग ट्रेडिंग में सफलता प्राप्त हो जाएगी |

लगातार सीखते रहें:

Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है

ट्रेडिंग एक ऐसा पैसे बनाने की जगह है जहां आप घर बैठे बहुत पैसा कमा सकते हैं इसके लिए आपको लगातार बाजार से नई-नई चीज सीखते रहना है और आप जो गलती करते हैं उससे भी आपको नई चीज सीखना है इसके लिए आपको हमेशा समाचार पढ़ना चाहिए साथ ही साथ नए तरीकों का भी प्रयोग करना चाहिए जिससे आप हमेशा सीखते रहेंगे और आपका लाभ बढ़ता रहेगा |(Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

डेमो खाते का उपयोग करें:

(Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

ट्रेडिंग करने से पहले अपना धन न लगाकर एक डेमो या फिर पेपर ट्रेडिंग खाते का प्रयोग जरूर करें इसमें आप अपने रणनीति का परीक्षण करें जिससे आपको पता चलेगा कि आपकी रणनीति कितना सही है और अगर उसे रणनीति में कमी होती है तो आप उसको सुधार करके दोबारा अपना रणनीति का परीक्षण करें परीक्षण पर अगर आपको फायदा या मुनाफा देखने को मिलता है तब जाकर आप अपना वास्तविक पैसा लगा करके मार्केट में ट्रेड करें | (Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

छोटे से शुरू करें:

(Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

हम ट्रेडिंग प्रारंभ करते हैं तो हमारे मन में बहुत अधिक धन कमाने की लालच होती है जिसके कारण हम अपना जोखिम बढ़ा लेते हैं ट्रेडिंग में हमेशा शुरुआत छोटे धन से करना चाहिए और हमें धीरे-धीरे सिखाते हुए पढ़ना चाहिए जब आपको अपने रणनीति पर पूरी तरीके से भरोसा हो जाए तब जाकर आप अपना धन को बढ़ती जाइए इस प्रकार आप छोटे से प्रारंभ करेंगे तो आपको आगे चलकर एक सफल ट्रेड बनने से कोई नहीं रोक सकता | (Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

अपने आप को भावनात्मक रूप से तैयार करें:

ट्रेडिंग के दौरान हमें नुकसान या फायदा दिखता है तो हम अपने आप को उसे चीज से रोक नहीं पाते अगर फायदा होता है तो हमें ऐसा लगता है कि यह फायदा कहीं चला ना जाए इस कारण हम उसे बेचकर निकल जाते हैं और अगर हमें नुकसान होता है तो हम उसे वेट करते हैं कि कब यह वापस फायदे में आए तब जाकर हम इसे बेचे इस गलती को न करने के लिए आप अपने भावनाओं पर ध्यान रखें आप अपना मन की शक्ति को बढ़ाएं अपने मानसिकता को मजबूत करें | (Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

एक जर्नल रखें:

(Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

ट्रेडिंग करते समय एक महत्वपूर्ण बात यह भी है कि आप अपने सारे ट्रेड के लिए एक जनरल बनाएं जिसमें आप अपना प्रवेश निकाय दोनों बिंदु का वर्णन करें अगर आप किसी ट्रेड में गलत साबित होते हैं तो वहां पर दर्शन की आप क्यों यहां गलत हुए और अगर आपको ट्रेड में फायदा होता है तो दर्शन की किस कारण आप वहां पर मुनाफा प्राप्त किया | (Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

निष्कर्ष :-

(Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

स्विंग ट्रेडिंग एक बहुत ही आकर्षक ट्रेडिंग रणनीति है इसमें आप अत्यधिक पैसा कमा सकते हैं पर याद रखें यह बिल्कुल भी जोखिम मुक्त नहीं है शेयर बाजार में सफल होने के लिए आपको हमेशा रणनीति का उपयोग अनुशासन जोखिम का प्रबंध करना चाहिए हमेशा आपको नई चीज सीखना चाहिए शेयर बाजार में हमेशा सावधानी रखनी चाहिए बाजार के सम्मान करें कभी सीखना बंद ना करें याद रखें याहां हर कोई सफल नहीं हो सकता इस कारण आपको यहां सफल होने के लिए अत्यधिक मेहनत करनी पड़ेगी | मैं उम्मीद करता हूँ की आपको Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है पोस्ट अच्छा लगा होगा 

READ MORE :- HDFC BANK CHART ANALYSIS

(Swing Trading Kya Hai In Hindi – स्विंग ट्रेडिंग क्या है)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *